दिल की कलम से…(1)

तकते थे राह उनकी, के यादों की कशमकश में ग़ज़ल बन गयी,

इस दिल में उठा एक ख़याल, और मुश्किल ख़ुद हल बन गयी ||

DSCF0411


उनके इंतज़ार में लिखी एक छोटी सी काव्य रचना…

ख़यालों  ने  उनके  सताया  है  इस  क़दर,  

के  राबता  हो  उनसे….तो  पूछेंगे  ज़रूर ;

तराशा  है  तुम्हें  खुद  उस  ख़ुदा  ने,  

या  हो  तुम  परी….या  कोई  हूर ||

है  तुमसे  ही  धड़कन  इस  दिल  की,  

और  तुम्ही  से  इन  आँखों  का  नूर;

के  मर  ही  मिटा  तुमपर, 

तो  इस  दिल  का  क्या  क़सूर ||

ग़ज़ल अभी बाकी है…

Advertisements

One thought on “दिल की कलम से…(1)

  1. Pingback: Alankaar: #AtoZChallenge – doc2poet

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s