दिल की कलम से…(2)

 DSCF0411

भाग २

इस  दिल  ने  ही  दिखाई  अंधेरों  में , 

नज़रों  को  राहें  तमाम  हैं;

माना  हुई  है  इससे  ख़ता,  

 पर  क़ुबूल  हमें  भी  ये  ख़ूबसूरत  इल्ज़ाम  है ||

न  जाने  हुआ  ये  कैसे ,   

के  एक   ही   झलक  में  दिल-ओ-जान  गवाँ  बैठे;

अजनबी  हुए  ख़ुद  से,  

और  उन्हे  भगवान  बना  बैठे ||

जादू  चला  उनका  कुछ  इस  तरह ,

 के  हम…रहे  नहीं  हम;

मिल  जाए  गर  उनका   साथ,   

तो  ख़ुद  को  खोने  का  भी  न  हो  ग़म ||

ग़ज़ल अभी बाकी है…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s