दिल की कलम से…(3)

DSCF0411

भाग ३

 ‘उनकी  नज़रों से  झाँकती  अपनी  तस्वीर’  सा  नशा, 

किसी   पैमाने   में  कहाँ ;

के  मुहब्बत  की  इस  बेखुदी  का   मज़ा, 

होश  में  आने  में  कहाँ ||

बयाँ  कर पाना मुम्किन नहीं ,

  के  कैसे  बीते  बरसों… इन  नज़रों  की  तलाश  में;

ज़िंदा  होने  के  इल्ज़ाम  तले ,  

चलती रही  साँसें …ज़िंदगी  की  आस  में ||

के  लौ  सी   तपती  धूप  में ,   

राहत…शाम  में  हमने  पाई  है ;

गुज़र  गये  झुलस्ते  मंज़र,    

के  जीवन  में  शब  लौट  आई  है ||

ग़ज़ल अभी बाकी है…

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s