दिल की कलम से…(4)

DSCF0411

भाग ४

ख्वाबों  के  वीराने  में ,   

क्या  खूब  हरियाली  छाई  है;

के  ढूंड  रहे  थे  लफ़्ज़ों  को,  

और…खुद  ग़ज़ल  ही  चली  आई  है ||

सजदा  करूँ  मैं  पल-पल  उसका , 

 जो  शख्सियत  ही  ख़ुदाया  है;

के   याकता  वो  हीर,   

 जिसने  इस  दिल  को  सजाया  है ||

उद्देश्य दिया इस जीवन को,

और हर पल को महकाया है,

हर पल को महकाया है ||

ये इस कविता का अंत नहीं, बल्कि इस प्रेम कहानी का आगाज़ है…

Advertisements

3 thoughts on “दिल की कलम से…(4)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s