ऊँ शांति: (1)

shutterstock_91955735

आध्यात्म की गहराइयों में भटकता बावरा मन…

तैरने चले थे दरिया में,

बीच रस्ते बरसात हो गयी,

के ढूँढने निकले थे ख़ुदा को,

और ख़ुद से मुलाक़ात हो गयी ||

∞ ∞ ∞

करके फ़रियाद जाने क्यूँ उसे शर्मिंदा किया करते हैं,

ख़बर जिसे हर राज़-ए-दिल की है,

के हर कामयाबी चूमेगी ख़ुद ही कदम,

गर हम उनके क़ाबिल भी हैं  ||

∞ ∞ ∞

ऊँ शांति: शांति:

Advertisements

One thought on “ऊँ शांति: (1)

  1. Pingback: Couplets: #AtoZChallenge – doc2poet

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s