हाल-ए-दिल (1)

DSCF0077

मुहब्बत की कशमकश में उलझा मासूम दिल …

भाग १

उनकी हालत पे ग़म न कर,

के दिलों का टूटना….तो दस्तूर है प्यार का |

 कभी डूब जाती है कश्ती,

तो कभी दोष होता है मझधार का |

 दिल… टूट कर भी आहें भरता ही है,

के मोहताज है ये किसी के प्यार का |

धड़कता है ये बस उसी के नाम से,

और मौका दे ही बैठता है…फ़िर इकरार का |

♦ ♦ ♦

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s