हाल-ए-दिल (2)

DSCF0077

मुहब्बत की कशमकश में उलझा मासूम दिल …

भाग २

 ये इश्क़ ही है और उसकी कोमलता,

जो टूटे दिल को…फ़िर सजा देती है |

महकाती है इस जीवन को,

और जीने की वजह देती है |

 मोहब्बत हर लम्हे से उपर है ,

के इससे ही हर पल ख़ास है |

के गीत कई  गुनगुनाने हैं अभी,

और समय ही हमारा साज़ है ||

♦ ♦ ♦

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s