उड़ान: #poem

DSCF0077

बाबा फ़रीद के संग्रह से दो बेहद दिलकश पंक्तियाँ

कागा  रे  कागा  रे  मोरी  इतनी  अर्ज  तोसे,  चुन-चुन  खाइयो  माँस,

खाइयो  ना  दो  नैना  मोरे, मोहे  पिया  के  मिलन  की  प्यास


एक कविता कई कहानियाँ कहती है
और ये कहानी है मेरे सपनों की उड़ान की…

उड़ने  दो  मेरे  सपनों  को,

के  घर  इनका  आकाश  है;

मत  जकड़ो  इन्हें  लकीरों  में,

के  ध्येय  इनका  बस  तलाश  है;

इनके  जानिब  संतोष  नहीं,

के  हँसती  इनकी  कुछ  ख़ास  है;

मंज़िल  से  इनका  क्या  नाता,

इनको  चलने  की  बस  प्यास  है;

के  मंज़िल  में  क्या  रखा  है,

गर  सफ़र  पे  अपने  नाज़  है;

के  गीत  कई  गुनगुनाने  हैं  अभी,

और  समय  ही  अपना  साज़  है ||

***

This poem was written for Indispire Edition 91: A poem – it may be spontaneous, it may be deliberate – but it moves us all. Share a poem that left a lasting impression on you. It might be a classic, or it might be your own or it might be from a fellow blogger. Choice is yours. #Poem

Advertisements

6 thoughts on “उड़ान: #poem

  1. So true……के मंज़िल में क्या रखा है,

    गर सफ़र पे अपने नाज़ है;….who cares for the destination….is it the journey that matters….beautiful and uplifting poem…..:) and the two lines in the beginning….they are great….!

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s