काव्य : #Inspiredtoblog

inspire_wallpaper_by_lifeendsnow-d31ipf8

Poetry is eternal poetry is pure, give me pen and close the door;
Have a lot to say but time no more, Just let it flow and let me roar…

मेरी प्रेरणा

मैं शायर तो नहीं ,

पर इन जज़्बात का इस काग़ज़ से ज़रूर कोई नाता है;

के लोग समझ पाते नहीं जो एहसास,

वो अनायास ही इसपर उतर आता है,

के पानी सा इनमें घुल जाता है

हर ख़याल जो दिल को सताता है

 अल्फ़ाज़ नहीं, के ये आईना हैं

जिनमें ज़हन में उड़ता, हर ख़्वाब नज़र आता है

कभी परवाज़ है ये, कभी धूमिल है

कभी गुम्सुम सा है, तो बेबाक कभी गीत सुनाता है

के ये मुझसे हैं, मैं इनसे हूँ

मिलते हैं एहसास, और फसाना बन जाता है…

***

This post is written for Indispire Edition 95: What inspired you to start blogging ? How is your experience in this blogging world. What have you achieved through it.. #inspiredtoblog

Advertisements

7 thoughts on “काव्य : #Inspiredtoblog

  1. बहोत खूब! इतनी सरलता से भावनाओं को व्यक्त किया है आपने की आपकी कविता लेखन से मैं मंत्रमुग्ध हो गया !!

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s