ख़ामोशी: #VoiceOfSilence

image

 गमगीन पलों के सन्नाटे से उठता धुआँ…


छलक  जाए  न  इस  दिल  से  कोई  ग़म ,

के  अक्सर  यूँही  हँस  लिया  करता  हूँ ;

टूट  जाता  था  जिनपर  आँसुओं  का  बाँध ,

उन  जज़्बात  को  कस  लिया  करता  हूँ ;

के  नम-से  कुछ  लम्हे  क़ैद  हैं  इन  आँखों  में ,

काँपती  इन  पलकों  से  उन्हें  थाम  लिया  करता  हूँ ;

के  पढ़  ले  ना  कोई  मेरी  ये  खामोशियाँ ,

हर  पल  बस  यही  अर्ज़ियाँ  करता  हूँ ;

के  इन  खामोशियों  में  छिपे  कई  राज़  हैं ,

उठता  है  गुबार  तो  ख़ुद  से  ही  कह  दिया  करता  हूँ ;

के  मिलते  नहीं  अल्फ़ाज़  हर  जज़्बात  को  यहाँ ,

कुछ  बन  जाते  हैं  किस्से  तो  कुछ  बस  ग़म  दिया  करते  हैं ;

 बस  ग़म  दिया  करते  हैं ||

***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘Voice Of Silence’.

wowbadge

12 thoughts on “ख़ामोशी: #VoiceOfSilence

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s