शत शत नमन (1)

Salute to the unnamed martyrs…

doc2poet

tumblr_lqx0hkOQP21r0brulo1_500

शहीद

के जिनके बलिदान के बिस्तर पर ,

हम चादर ताने सोते हैं ;

भूल बैठे हैं आहुति उनकी ,

के ख़्वाब बड़े…पर दिल छोटे हैं ;

 जीते थे जो हम-तुम के लिए ,

शहादत पे उनकी हम क्यूँ रोते हैं ;

आओ नमन करें उन वीरों को ,

और खुशियों के बीज बोते हैं ;

 के मोक्ष मिले हर साये को,

जो सरहद पर जीवन खोते हैं ;

बेनाम नहीं…शहीद हैं वो,

वो देश के बेटे होते हैं…

वो देश के बेटे होते हैं ||

‡ ‡ ‡

View original post

16 thoughts on “शत शत नमन (1)

  1. Wow Sir.. kya khoob likha hai.. hamare desh ke heere hai hamare sainik, iss desh ke bete hai. Desh ke liye apni jaan kurbaan karne waalo ko mein naman karta hu.. bahut acha likha hai aapne sir.. have a great weekend.. 🙂

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s