हँसते ज़ख़्म: #League of Lost Things

Indian Bloggers

IMG-20160508-WA0026

I have seen loss up close and it is something you wouldn’t wish even for your enemies. The tears I held back (at least attempted to) have found their way out through these couplets. I hope you can feel the connection:-


कभी  डूबते  का  सहारा  हुआ  करते  थे,

पर  अपनी  ही  कश्ती  में  शायद  छेद  था ;

सोचते  थे…मुट्ठी  में  सारा  जहाँ  लिए  बैठे  हैं,

जाने  कब  फिसल  गया  हाथों  से…वो  केवल  रेत  था ||

♥ ♥ ♥

इन  साँसों  की  बेशर्मी  पे  हैरां  हूँ ,

के  चलती  ही  रही… खुद  ज़िंदगी  को  खोकर ;

चुकाई  हर  हँसी  की  कीमत, घंटों  अंधेरों  में  रोकर ,

के  जाने  ये  वक़्त… हर  बार  कैसे  मात  दे  जाता  है ;

खुद  भी  जलकर  देख  लिया, पर  अंधेरा  लौट  ही  आता  है ||

♥ ♥ ♥

उन्हें  भूल  पाना  अब  मुमकिन  नहीं ,

के  ये  कोमल  एहसास  ही…साँसों  का  सहारा  बन  गया ;

साहिलों  से  नाता  टूटे  ज़माना  हो  चला,

के  उफनते  इस  सागर  में…ये  तिनका  ही  किनारा  बन गया ||

♥ ♥ ♥

छलक  जाए  ना  इस  दिल  से  कोई  ग़म , के  अक्सर  यूँही  हंस  लिया  करता  हूँ ;

 टूट  जाता  था  जिनपर  आँसुओं  का  बाँध ,उन  जज़्बात  को  कस  लिया  करता  हूँ ;

 के  ख़ौफ़  नहीं  अब  और  किसी  का , बस  फिर  से  मरने  से  डरता  हूँ ||

♥ ♥ ♥

आँसुओं  को  यूँ  बदनाम  न  कर,

के  मायूस  दिल  को  इन्हीं  से  क़रार  आता  है ;

पलकों  के  बाँध  तले  छुपाता  है  हर  ग़म,

और  छलक  भर  जायें…तो  दिल  हल्का  हो  जाता  है ||

♥ ♥ ♥

मुद्दतें  बीती  ख़ुशियों  की  चाह  में ,

के  हमने  ग़म  में  भी  मुस्कुराना  सीख  लिया  ;

मिला  ना  कांधा  भी  जब  इन  आँसुओं  को ,

हमने  ख़ुद  को  ही  मनाना  सीख  लिया ||

♥ ♥ ♥

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘League of Lost Things’.

Don’t forget to quote your favorite one. Your feedback is what keeps me going. Thank you:-)

wowbadge

Advertisements

41 thoughts on “हँसते ज़ख़्म: #League of Lost Things

  1. rekhu24

    Wow.. I always try writing in Hindi but cant write it with such pure feeelings 🙂

    मुद्दतें बीती ख़ुशियों की चाह में ,

    के हमने ग़म में भी मुस्कुराना सीख लिया ;

    मिला ना कांधा भी जब इन आँसुओं को ,

    हमने ख़ुद को ही मनाना सीख लिया ||

    This one is my favorite 🙂
    Cheers, Keep writing!

    Liked by 1 person

  2. You have wonderfully captured your heartfelt emotions in words through these couplets. I had tears in my eyes while reading them. All are very nice . The first one is my favorite…it conveys the truth n irony of life. Thanks for sharing 🙂

    Liked by 1 person

  3. जब मैंने ये मान लिया कि भारत के “शिक्षित” लोगों में हिंदी तकरीबन मर चुकी है, पता नहीं कहाँ से ये ब्लॉग मिल गया। बहुत ही अच्छा लिखा है।

    – IIT2AmateurPhotographer 😉
    http://tinyurl.com/attush

    For those who cannot read Hindi (Devanagiri):

    When I presumed that Hindi was almost dead among “educated” class of Indians, I stumbled upon this blog. Very well written.

    – IIT2AmateurPhotographer 😉
    (http://tinyurl.com/attush)

    Liked by 1 person

  4. न कर खुशियों की चाह
    बस यूंही चला चल बेपरवाह
    खुद आँएगी वो चलकर तेरे पास
    बस खुद पर कर विश्वास

    Liked by 1 person

    1. खुदी है बुलंद, के क़लम जो मेरे पास है,
      ख़ुशी मिले या ग़म, अब यही मेरा लिबास है…
      🙂

      Like

      1. ये काग़ज़ नहीं…आईना है इस दिल का,
        एकांत ही मेरा हम-साया,के कायल नहीं मैं महफ़िल का…

        Like

      2. महफिल में जाने वाले अक्सर दिल में अकेले होते हैं
        जो दिखते हैं तनहा उनकी रूह में लगे मेले होते हैं ।

        Liked by 1 person

      3. तन्हाई में जो मज़ा है, वो किसी महफ़िल में कहाँ,
        के रंग वहीं आते हैं नज़र, शामिल दिल हो जहाँ…

        Like

  5. बस फिर से मरने से डरता हूँ …..I wish your pen and your poetry keep you afloat. I found succor through the same medium. I can relate so much to each and every word of yours. The pain we have to bear, the tears we have to wipe, the smiles we wear to hide the agony inside us….

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s