ऊँ शांति: (3)

shutterstock_91955735

चन्द  सिक्कों  पे  गुरूर  न  कर  ऐ  ग़ालिब,

ये  वक़्त  की  रेत  में  खो  जाया  करते  हैं;

रह  जाते  हैं  बस  धुंधले  वो   मकाम,

अन्जाने  ही   दिलों  को जो  छू  जाया  करते  है ||

***

18 thoughts on “ऊँ शांति: (3)

  1. वाह! ‘ऊँ शांति’ टाइटल देख के अक्सर मैं आगे बढ़ जाता कि कुछ धर्म ज्ञान होगा. ये तो शायरी निकली! असल कवि आप ही हैं.

    Liked by 1 person

    1. बहुत बहुत शुक्रिया…मुझे तो शायरी और लेखन में ही शांति के दर्शन होते हैं…कोशिश करूँगा की आगे से शीर्षक ऐसी बाधा न बने…

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s