माँ : BlogchatterA2Z

m
Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

PS: This one is the closest to my heart. If you have ever liked any of my poem, you will love this one. And if you are here for the first time, the archive is on the right…

M                   अपने आँसुओं को जग की आँखों से छुपाकर पी जाना मैने बहुत पहले ही सीख लिया था | लेकिन कुछ बातें कभी नहीं छुपाई जा सकती | मेरे जीवन का सबसे दुखद लम्हा वह था जब उनका साया मेरे सर से रूठ गया | आज भी रह-रह कर वही पल अक्सर मेरी कविताओं में लौट आता है…

के  जितना था मुझसे दुलार,

करती थी जितना मुझसे प्यार;

मुझे एक बार और बाहों में भरने को,

वो  दरिया-ए-आग  मे  भी  उतरती;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  चन्द  साँसें  और  ज़रूर  भरती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती |

वो  रूठना, वो  मनाना ,

वो  डांट कर फिर प्यार जताना;

ऐसे  पल-दो-और-पलों  के  लिए,

वो  कुछ  भी  कर  गुज़रती;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  स्वयं  काल  के  प्राण  भी  हरती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती|

पर  भाग्य  की  थी  कुछ  और  ही  रज़ा,

मेरे  रंगों  मे  जैसे  कालिख  ही  भर  दी;

के  ग़म  तो  उसने  थोक  ही  दिए,

पर  ममता  केवल  फुटकर   दी;

होता  गर  बस  मे  उसके,

तो  समय  की  रेत  से  द्वंद  भी  वो  करती;

अपने  लिए  न  सही,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती,

मेरे  लिए  तो  ज़रूर  करती||

♥ ♥ ♥                                     doc2poet

अगर आपको मेरी कविताएँ पसन्द आयें तो मेरी पुस्तक “मन-मन्थन : एक काव्य संग्रह” ज़रूर पढ़ें| मुझे आपके प्यार का इन्तेज़ार रहेगा |

1qws (2)
Buy online
Advertisements

19 thoughts on “माँ : BlogchatterA2Z

  1. बहुत खूब।
    काफी समय पहले मैंने भी लिखी थी कुछ पंक्तियाँ –

    पूरी अपनी ज़िन्दगी करती हैं दूसरों पर कुर्बान |
    अपनी ख्वाहिशों को छोड़, बिना किये आराम ||

    अपने बच्चों, और फिर
    उनके भी बच्चों को
    सहेजती, दिन रात, लगातार |

    हाँ !! ये सिर्फ एक माँ ही कर सकती है ||

    P.S. – Never take her for granted.
    ज़िन्दगी के इस पड़ाव पर, अब तो उन्हें अपनी ज़िन्दगी जीने दो |

    https://namiwise.wordpress.com/2015/05/10/%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%81/

    Liked by 1 person

  2. shwetadave

    This gave me goosebumps. Words wouldn’t ever suffice to put down a mother’s love, but the selflessness and the beauty has been written so well 🙂 This is indeed one of the beautiful ones you have written.

    Liked by 1 person

Leave a Reply to Sapna Dhyani Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s