कौन हूँ मैं ? #KnowYourself

Indian Bloggers

DSCF0077

देखा  मैने  आईना, तो  वीराने  में  भी  शजर  पाया ,
मैने  वही  लिखा,  जो  मुझे  इन  आँखों  में  नज़र  आया…||

पाँव  ज़मीं  पर  नहीं  मेरे,  

के  इन  बादलों  पे  सवार  हूँ  मैं, 

के  मैं  हूँ, और  मेरी  तन्हाई,

और  इस  ज़माने  के  पार  हूँ  मैं,

बेफ़िक्र  हूँ, बेखौफ़  हूँ,

के  मद्धम  जलती  अंगार  हूँ  मैं, 

मैं  किल्कारी, मैं  आँसू  भी,

के  दामन  से  छलकता  प्यार  हूँ  मैं,

मैं  मुश्किल  हूँ, मैं  आसां  भी,

कभी  जीत  हूँ  तो, कभी  हार  हूँ  मैं,

उलझनों  की  इस  कशमकश  में,

उमीदों  की  ललकार  हूँ  मैं,

लुत्फ़  उठा  रहा  हूँ, हर  मुश्किल  का,

के  भट्टी  में  तपती  तलवार  हूँ  मैं,

ये  लहरें  ये  तूफान, तुम्हें  मुबारक,

के  कश्ती  नहीं  मझधार  हूँ  मैं,

मैं  मद्धम  हूँ, मैं  कोमल  हूँ,

और  चीते  सी  रफ़्तार  हूँ  मैं, 

के  दर्दभरी  मैं  चीखें  हूँ,

और  घुँगरू  की  झनकार  हूँ  मैं,

मैं  निर्दयी  हूँ, मैं  ज़ालिम  हूँ ,

के  मुहब्बत  का  तलबगार  हूँ  मैं, 

मैं  शायर  हूँ, मैं  आशिक़  भी,

इस  प्रेम-प्रसंग  का  सार  हूँ  मैं,

तुम  मुझसे  हो, मैं  तुमसे  हूँ,

झुकते  नैनों  का  इक़रार  हूँ  मैं, 

मैं  गीत  भी  हूँ, मैं  कविता  भी,

के  छन्दो  में  छुपा, अलंकार  हूँ  मैं,

मैं  ये  भी  हूँ, मैं  वो  भी  हूँ,

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं, 

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं ||

 ***

I penned this one long back in an attempt to define my own self and I hope It lives up to this prompt.  This post has been written for Indispire Edition 132No one knows you better than yourself…. Peep into your heart and describe yourself in one sentence #Knowyourself .

 

Advertisements

Sachin Tendulkar: A Tribute

Happy Birthday to the legend we all love. Thank you for being an inspiration for all of us. You may have left the 22 yards but you will always rule our hearts…Happy Birthday Sachin:-)

doc2poet

Indian Bloggers

wp_09

               My father have always been my inspiration. His perseverance and assiduity in his 40 years of job have been an inspiration. He is a living legend with simple living and high thinking. There is only one person whose life has been as impelling as my dad’s but he has galvanized a lot many more minds. #Sachin! #Sachin! It is not less than a holy verse for a master blaster fanatic and #Sachin is the God himself. This post is just a meager attempt to hold his magnificence in a handful of words. Lets see how it fairs…

Who is greater than #Sachin, 

‘coz he is second to none,

Cricket has seen many, 

but #Sachin is only one,

He is the god of cricket, 

sitting on the Everest of runs,

Some are Hindu, some Muslim; 

but He is my religion,

He is the quintessential cricketer, 

yet beyond all convention,

He…

View original post 92 more words

अनसुनी आवाज़: #AboutOthers

tx5ebij70t9

Just got a new badge on Indiblogger for participating in blogging for Indichange activity. Here is the post I wrote as a tribute to all those poor souls who suffered during natural calamities in India including the Chennai flood victims…I know writing a post is not all they need but spreading awareness can surely play its part…I hope you feel the same and liking and sharing this post may suffice…:-)

https://www.indiblogger.in/indipost.php?post=530985

doc2poet

DSCF0077

इस दिल से उठती आग की चन्द लपटें


क्सर पूछता हूँ इन तन्हाई से ,

पने हैं या समय, जो अपनों को यूँ  सताते हैं;

ती है कठिनाई जब उनके बच्चों पर,

ल्लाह/ भगवान/ यीशु…जाने कहाँ छुप जाते हैं;

ज़माता है वो भी केवल मासूमों को,

र सक्षम बस शोक जताते  हैं;

जब-गज़ब हैं लोग  यहाँ  के,

हम् को तज नहीं पाते हैं;

फ़सोस जताकर facebookपर,

पनों को भूल ही जाते हैं;

या है कलयुग…स्मरण रहे,

ब्र भी यहाँ कहर ही ढाते हैं;

धे-पौने से शहर हैं क्या,

मची-मुंबई को भी ये डूबा जाते हैं;

स्त-व्यस्त है जन-जीवन,

ब चेन्नई, तब उत्तराखंड-कश्मीर याद आते हैं;

धे डूबे से लोग यहाँ, जीने की इस जंग में,

आँसू भी अपने पी जाते हैं;

स्थायी है सब गर याद रहे, तो;

र्थ…

View original post 78 more words

शत शत नमन (1)

Salute to the unnamed martyrs…

doc2poet

tumblr_lqx0hkOQP21r0brulo1_500

शहीद

के जिनके बलिदान के बिस्तर पर ,

हम चादर ताने सोते हैं ;

भूल बैठे हैं आहुति उनकी ,

के ख़्वाब बड़े…पर दिल छोटे हैं ;

 जीते थे जो हम-तुम के लिए ,

शहादत पे उनकी हम क्यूँ रोते हैं ;

आओ नमन करें उन वीरों को ,

और खुशियों के बीज बोते हैं ;

 के मोक्ष मिले हर साये को,

जो सरहद पर जीवन खोते हैं ;

बेनाम नहीं…शहीद हैं वो,

वो देश के बेटे होते हैं…

वो देश के बेटे होते हैं ||

‡ ‡ ‡

View original post