अनसुनी आवाज़: #AboutOthers

DSCF0077

इस दिल से उठती आग की चन्द लपटें


क्सर पूछता हूँ इन तन्हाई से ,

पने हैं या समय, जो अपनों को यूँ  सताते हैं;

ती है कठिनाई जब उनके बच्चों पर,

ल्लाह/ भगवान/ यीशु…जाने कहाँ छुप जाते हैं;

ज़माता है वो भी केवल मासूमों को,

र सक्षम बस शोक जताते  हैं;

जब-गज़ब हैं लोग  यहाँ  के,

हम् को तज नहीं पाते हैं;

फ़सोस जताकर facebook पर,

पनों को भूल ही जाते हैं;

या है कलयुग…स्मरण रहे,

ब्र भी यहाँ कहर ही ढाते हैं;

धे-पौने से शहर हैं क्या,

मची-मुंबई को भी ये डूबा जाते हैं;

स्त-व्यस्त है जन-जीवन,

ब चेन्नई, तब उत्तराखंड-कश्मीर याद आते हैं;

धे डूबे से लोग यहाँ, जीने की इस जंग में,

आँसू भी अपने पी जाते हैं;

स्थायी है सब गर याद रहे, तो;

र्थ निर्रथक हो जाते हैं;

ल्प विराम की तरह रुकते हैं,

र हँसकर आगे बढ़ जाते हैं…

हँसकर आगे बढ़ जाते हैं ||

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda to write a 15 line poem on ‘It’s About Others’ starting each line with the first initial of your first name.

wowbadge

This post is also part of blogging for indichange initiative of Indiblogger for Chennai Flood victims.

Advertisements