अमन की आशा #BloggingForPeace

             wp_MultiLingualPeaceDove

                 We can never obtain peace in the outer world until we make peace with ourselves. Let us come together and create a world where science and progress will lead to all men’s happiness.

जाने  क्यूँ  तबाह  होती  हैं  मासूम  ज़िंदगियाँ,

जाने  क्यूँ  लोग  जंग  किया  करते  हैं;

करते  हैं  उनके  नाम  पे  कत्ल,

जो  हर  रूह  को  पनाह  दिया  करते  हैं;

बाँटते  हैं  जाने  क्यूँ  दुनिया  को  सरहदों  में,

और  नाम  में  मज़हब  ढूंड  लिया  करते  हैं;

यूँ  तो  जीते  भी  मर-मरके  हैं  अगणित  लोग,

पर  मरने  वालों  का  क़र्ज़  भी  यहाँ  ज़िंदा  दिया  करते  हैं;

करके  भेद  अल्लाह, शिव  और  ईसा-मसीह  में,

जाने  क्यूँ  उन्हें  शर्मिंदा  किया  करते  हैं;

भूल  जाते  हैं  आहुति  उन  मासूमों  की,

के  अब  ख़्वाब  बड़े…पर  दिल  छोटे  हुआ  करते  हैं;

कर  सकते  नहीं  जिनकी  रूह  को  हम  रिहा,

शहादत  पे  उनकी  हम  क्यूँ  रोया  करते  हैं;

के  मोक्ष  मिले  हर  उस  साए  को,

जो  धर्म-द्वेश  की  जंग  में…बेमौत  ही  जीते-मरते  हैं;

के  बेनाम  सही  पर  शहीद  हैं  वो,

उन  वीरों  को  नमन  हम  करते  हैं…

वीरों  को  नमन  हम  करते  हैं…

§ § §

Let’s  start  a  new  cycle  by   #BloggingForPeace  with  BlogAdda.

Advertisements