Poetry is born…

Indian Bloggers

mangata_custom-f6adbab3eead0418e9ff0eec892e892b1d08413f-s900-c85
Source here

कैसे  न  लिखूं  ?


चाँद  सा  धवल  ये  काग़ज़,

बेचैन  लहरों   सी  मचलती  स्याही,

कैसे  ना  उठे  लफ़्ज़ों  का  तूफान,

हो  जायें  गर  ये  एक,

जैसे  रूह   को  मिल  गया  हो  इलाही ||

***

I learned a new word recently  (pronounced ‘Mu-ang-ta’) & I loved it. Hope you like it too:-)

कौन हूँ मैं ? #KnowYourself

Indian Bloggers

DSCF0077

देखा  मैने  आईना, तो  वीराने  में  भी  शजर  पाया ,
मैने  वही  लिखा,  जो  मुझे  इन  आँखों  में  नज़र  आया…||

पाँव  ज़मीं  पर  नहीं  मेरे,  

के  इन  बादलों  पे  सवार  हूँ  मैं, 

के  मैं  हूँ, और  मेरी  तन्हाई,

और  इस  ज़माने  के  पार  हूँ  मैं,

बेफ़िक्र  हूँ, बेखौफ़  हूँ,

के  मद्धम  जलती  अंगार  हूँ  मैं, 

मैं  किल्कारी, मैं  आँसू  भी,

के  दामन  से  छलकता  प्यार  हूँ  मैं,

मैं  मुश्किल  हूँ, मैं  आसां  भी,

कभी  जीत  हूँ  तो, कभी  हार  हूँ  मैं,

उलझनों  की  इस  कशमकश  में,

उमीदों  की  ललकार  हूँ  मैं,

लुत्फ़  उठा  रहा  हूँ, हर  मुश्किल  का,

के  भट्टी  में  तपती  तलवार  हूँ  मैं,

ये  लहरें  ये  तूफान, तुम्हें  मुबारक,

के  कश्ती  नहीं  मझधार  हूँ  मैं,

मैं  मद्धम  हूँ, मैं  कोमल  हूँ,

और  चीते  सी  रफ़्तार  हूँ  मैं, 

के  दर्दभरी  मैं  चीखें  हूँ,

और  घुँगरू  की  झनकार  हूँ  मैं,

मैं  निर्दयी  हूँ, मैं  ज़ालिम  हूँ ,

के  मुहब्बत  का  तलबगार  हूँ  मैं, 

मैं  शायर  हूँ, मैं  आशिक़  भी,

इस  प्रेम-प्रसंग  का  सार  हूँ  मैं,

तुम  मुझसे  हो, मैं  तुमसे  हूँ,

झुकते  नैनों  का  इक़रार  हूँ  मैं, 

मैं  गीत  भी  हूँ, मैं  कविता  भी,

के  छन्दो  में  छुपा, अलंकार  हूँ  मैं,

मैं  ये  भी  हूँ, मैं  वो  भी  हूँ,

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं, 

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं ||

 ***

I penned this one long back in an attempt to define my own self and I hope It lives up to this prompt.  This post has been written for Indispire Edition 132No one knows you better than yourself…. Peep into your heart and describe yourself in one sentence #Knowyourself .

 

मैं आज़ाद हूँ

Indian Bloggers

chandra-shekhar-azad-bhartiya-sanskriti-gyan-pariksha

एक श्रद्धांजलि

(23 July 1906- 27 Feb 1931)


के  जिनके  बलिदान  के  बिस्तर  पर ,

हम  चादर  ताने  सोते  हैं ;

शत  शत  नमन  उन  वीरों  को,

जो  शहीद  होकर  ही  आज़ाद  होते  हैं ||

                                 -doc2poet

 

chander-shekhar-azad-111
Source here

चिंगारी  आज़ादी  की  सुलगी  मेरे  ज़हन  में  है,

इन्क़लाब  की  ज्वालायें  लिपटी  मेरे  बदन  में  हैं,

मौत  जहाँ  जन्नत  हो  वो  बात  मेरे  वतन  में  है,

क़ुर्बानी  का  जज़्बा  ज़िंदा  मेरे  कफ़न  में  है ||

                                       -चंद्रशेखर आज़ाद 

***

May his soul rest in peace, Amen.

_/\_

 

ऊँ शांति: (3)

shutterstock_91955735

चन्द  सिक्कों  पे  गुरूर  न  कर  ऐ  ग़ालिब,

ये  वक़्त  की  रेत  में  खो  जाया  करते  हैं;

रह  जाते  हैं  बस  धुंधले  वो   मकाम,

अन्जाने  ही   दिलों  को जो  छू  जाया  करते  है ||

***

I want to…

Indian Bloggers

14695
Source here

I aspire to be a better son,

An ideal brother, at least a better one,

The best husband; a lover and a companion,

A little more romantic, a bit more fun,

A lot more learned, a bit more erudite,

Just keep going and win over the tide,

Want to be more me, & grow as a person,

Just a teeny bit is left, a weeny bit is done…

***