चिकित्सक : #BlogchatterA2Z

c

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

                   चिकित्सा के क्षेत्र में बढ़ती नकारात्मक सोच और असंतोष को देखकर दुख तो होता है लेकिन मुझे गर्व है की मैं एक चिकित्सक हूँ| हमें मिलकर भरसक प्रयास करने चाहियें ताकि हम द्वेष को भूलकर प्रगती की ओर अग्रसर रह सकें…

पाठ्यक्रम का  दशक, परीक्षायें वृशक़;

प्रेमाभिलाषी, रक्षक; मैं चिकित्सक…मैं चिकित्सक ||

♥ ♥ ♥                              -doc2poet

C                 कोई भी मुश्किल आसान हो जाती है जब कोई मरीज़ स्वस्थ होकर घर लौटता है और हमारी मेहनत सफल होती है | चाहे कोई मरीज़ कहे या नहीं पर उसकी खुशी उसके चेहरे पर साफ छलकती है  और इससे जो संतुष्टि मिलती है,  अच्छा करने की  प्रेरणा मिलती है उसका कोई मुक़ाबला नहीं कर सकता…

धड़कानों  की  धुन  पर  गुनगुनाती  फिर  से  कोई  ज़िंदगी,

जैसे  ख़ुशियों  में डूबे  कोई दिल, जो  था  कभी  ग़मज़दा,

रूखे  से लब  थिरकते  हों,  फिर  ख़ुशी  से मिलकर,

रोम-रोम  हो  स्वस्थ, और  हर  मर्ज़  ले  विदा,

भावुक  मन और नम  आँखें, करती  हैं जैसे  इलतज़ा,

भीनी  मुस्कान, काँपती  आवाज़, करती  शुक्रिया अदा,

हो  भाव  विभोर ये  तन  और मन,  खुशियों से महके  फ़िज़ा ,

 हुई   क़ुबूल  हो  जिसकी  दुआ, गाए  ये रूह जैसे  आबिदा,

ये  रूह  जैसे   आबिदा ||

♥ ♥ ♥                              -doc2poet

अगर आपको मेरी कविताएँ पसन्द आयें तो मेरी पुस्तक “मन-मन्थन : एक काव्य संग्रह” ज़रूर पढ़ें| मुझे आपके प्यार का इन्तेज़ार रहेगा |

1qws (2)
Buy online

Happy Doctor’s Day

Indian Bloggers

IMG-20160701-WA0027

My gratitude to all the superheroes donning the white apron with pride. I hope you have a wonderful day, a fruitful year and an amazing life. Happy Doctor’s Day.
Here’s a poem to do the honors…

doc2poet

Indian Bloggers
20170411_124857-1

Presenting my composition, a tribute to the doctors and in fact all the medicos, which found a place in the annual collection of shortlisted poems selected by the jury of poetry society of India. I couldn’t win though, but it is a huge motivation to keep trying. Here it goes:

We are the Doctors


We  are  the  healers, we  cure,  we  care,

Cope  with  plights,  only  few  would  dare,

We  are  everywhere; so common yet  so  rare,

The resilient, eccentric & beyond compare,

We who missed the dusk of adolescence;

Solving MCQs  & juggling  books  for  reference,

Suffered in saudade  to  don the white coats,

Trying  to  be  resolute  while  riding  many  boats,

We  study  not  only  medicine, but  law  to  stats,

Playing multiple tricks with solitary hats,

For us, winsome moments are like spam,

And life is only what is  left  between  exams,

We  who  graduate  as  our  friends  finish  PGs,

A…

View original post 247 more words

मर्ज़ : #Health

Indian Bloggers

PhotoFunia-1472886846
Created with @photofunia

The viral syndromes are yet again knocking our doors. The numbers are still on the verge of being called an epidemic but the panic is already through the roofs. All Delhiites please take notice…

Health Advisory:

  • Beware of mosquitoes (use nets, repellents, etc)
  • Symptoms to look for: High fever, chills, Joint pains, malaise, rash, etc
  • Consult your doctor ASAP
  • Take only Paracetamol for fever and pain
  • Drink plenty of fluids to maintain hydration
  • Most importantly wait for 5-7 days for the symptoms to resolve and take rest…

If you follow these simple steps you will be hale and hearty before you know it…while you are on rest you can browse through my archives of course…

Here’s a poem to put things in perspective…

स्वस्थ  होकर  जाते  मरीज़  के  दिल  से  निकली  दुआ

धड़कानों  की  धुन  पर  गुनगुनाती  फिर  कोई  ज़िंदगी,

 ख़ुशियों  में  डूबे  कोई  दिल, जो  था  कभी  ग़मज़दा ;

रूखे  से  लब  थिरकते  फिर  ख़ुशी  से  मिलकर ,

जब रोम-रोम  हो   स्वस्थ  और   मर्ज़  ले  विदा ;

 भावुक  मन  नम  आँखें , करती  हों  जैसे  इलतज़ा,

और मीठी  मुस्कान,  काँपती  आवाज़,  करती  शुक्रिया  अदा ;

है भाव  विभोर  ये  तन  और  मन,

के   क़ुबूल  हुई  हो  जिसकी  दुआ, ये  रूह  वो सुकृत आबिदा…

ये  रूह  जैसे  वो  आबिदा…

***

Stay safe, stay healthy…