राज़-ए-दिल: #NobodyKnows

Indian Bloggers

alone man

दफ़्न  रह  जाने  दो  कुछ  राज़  इस  दिल  में,

के  हर  दास्तान  को  यहाँ  ज़ुबान  नहीं  मिलती,

यूँ  तो  नवाज़ा  है  कई  हुनर  से  उस  ख़ुदा  ने,

पर…हर  ख़ूबी  को  यहाँ  पहचान  नहीं  मिलती,

टिमटिमाते  हैं  इरादों  के  सितारे…उँचे  आसमानों  में,

पर  कुछ  ख़्वाबों  को  यहाँ  उड़ान  नहीं  मिलती,

कुछ  होठों  की  हँसी  का  हाफ़िज़  ख़ुदा  होता  है,

 तो  कुछ  लबों  को  यहाँ  मुस्कान  नहीं  मिलती,

बनते  हैं  कुछ  कदम  बस  दुर्गम  पहाड़ों  के  लिए,

के  सबको  यहाँ  राहें  आसान  नहीं  मिलती,

के  बता  तो  दूँ   छुपा  क्या  है  इस  दिल  में,

पर…हर  कतरे  को  यहाँ  ख़्वाहिश  तमाम  नहीं  मिलती  ||

***

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘Nobody Knows That I…’.

wowbadge