फ़ासले: #RightToBeWrong

DSCF0077

 Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

Why is it so important to be always right?

मेरे  सही  होने  से,

तेरा  सही  होना  ही  सही,

ये  धरती  अम्बर   सब  तेरे,

मेरा  मन   का  कोना  ही  सही,

सही  ग़लत  के  झगड़े  में,

जाने  कितनी  इमारतें  ढही,

ऐसे  सही  होने  से  ,

तो  ग़लत  होना  ही  सही,

सही  होने  की  चाह  में,

कह  जाते  हैं  बातें  अनकही,

उठतीं  हैं  ऐसी  लहरें,

के  शर्म  लिहाज  सब  बही,

क्यूँ  सही  होना  ही  ज़रूरी  है,

क्यूँ  हिंसा  ही  जीत  रही,

ग़लत  होकर  भी  मैने  देख  लिया,

मानो  तो  कोई  फ़र्क  नहीं ,

मिटा  दे  सही  ग़लत  के  जो  फ़ासले,

मिल  जाए  ख़ुदा  से  खुद  वही,

क्या  रखा  है  इन  झगड़ों  में,

खुशहाली  ही  में  धीमहि ,

खुशहाली  ही  में धीमहि….||

***

अंतर्दर्शन: #SelfDiscovery

1017-14
Image source

 If you cannot find peace within yourself, you will never find it anywhere else. There was a time when I searched every nook and corner of my heart to look for answers, which I realized I knew already. You just have to quieten the mind and soul will speak for itself and reveal all its secrets. We often meet ourselves where we least expect it.

तैरने  चले  थे  दरिया  में, बीच  रस्ते  बरसात  हो  गयी,

के  ढूँढने  निकले  थे  ख़ुदा  को,  और  ख़ुद  से  मुलाक़ात  हो  गयी ||

                                          -doc2poet

                 Here are a few of the poems and couplets that churned out of my enlightened (only partially) mind.

मुकम्मल  जहाँ  की  तलाश  में,

फिरते  रहे  मारे-मारे ;

कैसे  मिले…जो  खोया  ही  नहीं,

हर  पल  पास  है  हमारे ; 

बस  आँखें  बंद  करने  की  देरी  है,

और  जी  उठेंगे  दिलकश  नज़ारे ;

के  लड़खड़ाते  ये  कदम  राह  ढूंड  ही  लेंगे,

कभी  यादों  की  भीड़  में…कभी  तन्हाई  के  सहारे ||

                                          -doc2poet

e2311f904ee3e51910b3608639be7e02
Image source

सुनहरे  सपनों  की  आड़  में,
ज़िंदगी  के  रंगीन  पल, गुप-छुपकर  निकल  जाते  हैं ;

गिर  कर  उठना  तो  याद  रहता  है,
भूल  जाते  हैं…जब  लड़खडाकर  सम्भल  जाते  हैं ;

ये  पल  धुंधली  यादें  बनकर ,
होठों   पर  कभी  झिलमिलाते  हैं ;

और  कभी  आँसू  बनकर ,
आँखों  में  पिघल  आते  हैं ;

के  वक़्त  से  इस  कशमकश  में ,
दिल-ए-नादान  मुस्कुरा  ही  लेता  है ;

बस  खुशी  के  पैमाने  बदल  जाते  हैं…
खुशी  के  पैमाने  बदल  जाते  हैं ||

                                          -doc2poet

Here’s how Sant Kabira would have said this…

आपहु  मस्ती  काटिए,  हँसिए  और  हंसाए ;

चिंता  का  ऐनक  उतार  फेंक,  तो  जाग  सुंदर  हो  जाए ||

ऐसा  जीवन  हो  लाजवाब,  गर  सच  में  कोई  कर  पाए ;

सच्चा  साथी  है  मूल  मंत्र , जो  सच्ची  राह  दिखाए  ||

                                          -doc2poet

This post is written for Indispire Edition 148: Life is a journey of self discovery. Describe your journey till now or a part of your journey which brought to closer to a truth about life or closer to your soul and self-discovery.#SelfDiscovery

कौन हूँ मैं ? #KnowYourself

Indian Bloggers

DSCF0077

देखा  मैने  आईना, तो  वीराने  में  भी  शजर  पाया ,
मैने  वही  लिखा,  जो  मुझे  इन  आँखों  में  नज़र  आया…||

पाँव  ज़मीं  पर  नहीं  मेरे,  

के  इन  बादलों  पे  सवार  हूँ  मैं, 

के  मैं  हूँ, और  मेरी  तन्हाई,

और  इस  ज़माने  के  पार  हूँ  मैं,

बेफ़िक्र  हूँ, बेखौफ़  हूँ,

के  मद्धम  जलती  अंगार  हूँ  मैं, 

मैं  किल्कारी, मैं  आँसू  भी,

के  दामन  से  छलकता  प्यार  हूँ  मैं,

मैं  मुश्किल  हूँ, मैं  आसां  भी,

कभी  जीत  हूँ  तो, कभी  हार  हूँ  मैं,

उलझनों  की  इस  कशमकश  में,

उमीदों  की  ललकार  हूँ  मैं,

लुत्फ़  उठा  रहा  हूँ, हर  मुश्किल  का,

के  भट्टी  में  तपती  तलवार  हूँ  मैं,

ये  लहरें  ये  तूफान, तुम्हें  मुबारक,

के  कश्ती  नहीं  मझधार  हूँ  मैं,

मैं  मद्धम  हूँ, मैं  कोमल  हूँ,

और  चीते  सी  रफ़्तार  हूँ  मैं, 

के  दर्दभरी  मैं  चीखें  हूँ,

और  घुँगरू  की  झनकार  हूँ  मैं,

मैं  निर्दयी  हूँ, मैं  ज़ालिम  हूँ ,

के  मुहब्बत  का  तलबगार  हूँ  मैं, 

मैं  शायर  हूँ, मैं  आशिक़  भी,

इस  प्रेम-प्रसंग  का  सार  हूँ  मैं,

तुम  मुझसे  हो, मैं  तुमसे  हूँ,

झुकते  नैनों  का  इक़रार  हूँ  मैं, 

मैं  गीत  भी  हूँ, मैं  कविता  भी,

के  छन्दो  में  छुपा, अलंकार  हूँ  मैं,

मैं  ये  भी  हूँ, मैं  वो  भी  हूँ,

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं, 

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं ||

 ***

I penned this one long back in an attempt to define my own self and I hope It lives up to this prompt.  This post has been written for Indispire Edition 132No one knows you better than yourself…. Peep into your heart and describe yourself in one sentence #Knowyourself .

 

राधे-कृष्ण :#Poetry

Indian Bloggers

Romantic-Love-Painting-Radha-Krishna-with-Green-Background-HD-Wallpaper (1)
Source here

I remember this one from the TV series on Mahabharata…

यदा  यदा  हि  धर्मस्य  ग्लानिर्भवति  भारत ।
अभ्युत्थानमधर्मस्य  तदात्मानं  सृजाम्यहम्  ॥४-७॥

परित्राणाय  साधूनां  विनाशाय  च  दुष्कृताम् ।
धर्मसंस्थापनार्थाय  सम्भवामि  युगे  युगे  ॥४-८॥

Translation:

Whenever and wherever there is a decline in religious practice, O descendant of Bharata, and a predominant rise of irreligion – at that time I descend Myself.

To deliver the pious and to annihilate the miscreants, as well as to reestablish the principles of religion, I Myself appear, millennium after millennium.

Here’s something for you to think upon…

उत्सव   हर  ओर  और  जगमग  मन  मन्दिर,

के   इन  गलियों  की  आज  भिन्न  सी  कुछ  आभा  है,

 गूंजेगा  पलना  आज  स्वयँ  वासुदेव  की  किलकरी  से,

पर इस मोर पॅंख में तेज आज कुछ कम सा है कुछ आधा है,

के  बुझा  दिया  जिस  कोख  का  दिया  समाज के इन रखवालों ने,

शायद उसी  कोख  में  राधा  है… उसी  कोख  में  राधा  है…||

                                           -doc2poet

***

Haiku #2

Indian Bloggers

haiku-beach
Source here

अस्तित्व 

असीम  ज्ञान  का  सागर,

बहती  धाराएँ,

कूपंन्डुक  मैं  निराधार ||

                                                                            -Doc2poet

कूपंन्डुक= कुएँ का मेन्डक