Review : Man Manthan by Dr. Amit Prakash

Here’s a review of my Anthology by Pawan kumar Sharma. He loved it and I am sure you will love it too. Please read and share the love. 🙂

Sleepwell

The poems by Mr. Amit Prakash are very heartfelt and you can always relate with them somewhere or the other. They are not only lucid and rhythmic but also has a  deep sense of beauty and feelings. Just like a rainbow has many colors in it, the poems of Amit covers many facets of life, be it Softness, Sprituality, Search, Haiku, Eco or Patience.

Your lines in the poem ‘Aabhar’ for Parents is very touching and true…” Yu to yeh raah aasaan n thi, per chulu aashman..me ish hod me tha, lagne n paya paw me kanta per koi, kyonki me to aapki gaud me tha”. A Maa nurtures and nourishes us is so many ways, she takes all the pains so that we always feel comfortable. A very beautiful and heart touching expression by you…

Diwani  bas eek majno tha, yeh hamme n batlaiye

Uski eek lela thi, toh…

View original post 202 more words

हँसते ज़ख़्म: #League of Lost Things

Indian Bloggers

IMG-20160508-WA0026

I have seen loss up close and it is something you wouldn’t wish even for your enemies. The tears I held back (at least attempted to) have found their way out through these couplets. I hope you can feel the connection:-


कभी  डूबते  का  सहारा  हुआ  करते  थे,

पर  अपनी  ही  कश्ती  में  शायद  छेद  था ;

सोचते  थे…मुट्ठी  में  सारा  जहाँ  लिए  बैठे  हैं,

जाने  कब  फिसल  गया  हाथों  से…वो  केवल  रेत  था ||

♥ ♥ ♥

इन  साँसों  की  बेशर्मी  पे  हैरां  हूँ ,

के  चलती  ही  रही… खुद  ज़िंदगी  को  खोकर ;

चुकाई  हर  हँसी  की  कीमत, घंटों  अंधेरों  में  रोकर ,

के  जाने  ये  वक़्त… हर  बार  कैसे  मात  दे  जाता  है ;

खुद  भी  जलकर  देख  लिया, पर  अंधेरा  लौट  ही  आता  है ||

♥ ♥ ♥

उन्हें  भूल  पाना  अब  मुमकिन  नहीं ,

के  ये  कोमल  एहसास  ही…साँसों  का  सहारा  बन  गया ;

साहिलों  से  नाता  टूटे  ज़माना  हो  चला,

के  उफनते  इस  सागर  में…ये  तिनका  ही  किनारा  बन गया ||

♥ ♥ ♥

छलक  जाए  ना  इस  दिल  से  कोई  ग़म , के  अक्सर  यूँही  हंस  लिया  करता  हूँ ;

 टूट  जाता  था  जिनपर  आँसुओं  का  बाँध ,उन  जज़्बात  को  कस  लिया  करता  हूँ ;

 के  ख़ौफ़  नहीं  अब  और  किसी  का , बस  फिर  से  मरने  से  डरता  हूँ ||

♥ ♥ ♥

आँसुओं  को  यूँ  बदनाम  न  कर,

के  मायूस  दिल  को  इन्हीं  से  क़रार  आता  है ;

पलकों  के  बाँध  तले  छुपाता  है  हर  ग़म,

और  छलक  भर  जायें…तो  दिल  हल्का  हो  जाता  है ||

♥ ♥ ♥

मुद्दतें  बीती  ख़ुशियों  की  चाह  में ,

के  हमने  ग़म  में  भी  मुस्कुराना  सीख  लिया  ;

मिला  ना  कांधा  भी  जब  इन  आँसुओं  को ,

हमने  ख़ुद  को  ही  मनाना  सीख  लिया ||

♥ ♥ ♥

This post is a part of Write Over the Weekend, an initiative for Indian Bloggers by BlogAdda. This week’s WOW prompt is – ‘League of Lost Things’.

Don’t forget to quote your favorite one. Your feedback is what keeps me going. Thank you:-)

wowbadge

ऊँ शांति: (2)

shutterstock_91955735

आध्यात्म की गहराइयों में भटकता बावरा मन…

मुकम्मल  जहाँ  की  तलाश  में,

फिरते  रहे  मारे-मारे ;

कैसे  मिले…जो  खोया  ही  नहीं,

हर  पल  पास  है  हमारे ; 

बस  आँखें  बंद  करने  की  देरी  है,

और  जी  उठेंगे  दिलकश  नज़ारे ;

के  लड़खड़ाते  ये  कदम  अपनी  राह  ढूंड  ही  लेंगे,

कभी  यादों  की  भीड़  में…कभी  तन्हाई  के  सहारे ||

ψ ψ ψ

ख़्वाहिश  भर  से  अंजाम  मिला  नहीं  करते,

के  हर  ख़्वाब  को  परवान  चढ़ाना  पड़ता  है ;

अंधेरे  को  कोसकर  किसने  क्या  पाया  है,

के  अपना  दीपक  ख़ुद  ही  जलाना  पड़ता  है ||

ψ ψ ψ

ऊँ शांति: शांति: