मर्ज़ : #Health

Indian Bloggers

PhotoFunia-1472886846
Created with @photofunia

The viral syndromes are yet again knocking our doors. The numbers are still on the verge of being called an epidemic but the panic is already through the roofs. All Delhiites please take notice…

Health Advisory:

  • Beware of mosquitoes (use nets, repellents, etc)
  • Symptoms to look for: High fever, chills, Joint pains, malaise, rash, etc
  • Consult your doctor ASAP
  • Take only Paracetamol for fever and pain
  • Drink plenty of fluids to maintain hydration
  • Most importantly wait for 5-7 days for the symptoms to resolve and take rest…

If you follow these simple steps you will be hale and hearty before you know it…while you are on rest you can browse through my archives of course…

Here’s a poem to put things in perspective…

स्वस्थ  होकर  जाते  मरीज़  के  दिल  से  निकली  दुआ

धड़कानों  की  धुन  पर  गुनगुनाती  फिर  कोई  ज़िंदगी,

 ख़ुशियों  में  डूबे  कोई  दिल, जो  था  कभी  ग़मज़दा ;

रूखे  से  लब  थिरकते  फिर  ख़ुशी  से  मिलकर ,

जब रोम-रोम  हो   स्वस्थ  और   मर्ज़  ले  विदा ;

 भावुक  मन  नम  आँखें , करती  हों  जैसे  इलतज़ा,

और मीठी  मुस्कान,  काँपती  आवाज़,  करती  शुक्रिया  अदा ;

है भाव  विभोर  ये  तन  और  मन,

के   क़ुबूल  हुई  हो  जिसकी  दुआ, ये  रूह  वो सुकृत आबिदा…

ये  रूह  जैसे  वो  आबिदा…

***

Stay safe, stay healthy…

कौन हूँ मैं ? #KnowYourself

Indian Bloggers

DSCF0077

देखा  मैने  आईना, तो  वीराने  में  भी  शजर  पाया ,
मैने  वही  लिखा,  जो  मुझे  इन  आँखों  में  नज़र  आया…||

पाँव  ज़मीं  पर  नहीं  मेरे,  

के  इन  बादलों  पे  सवार  हूँ  मैं, 

के  मैं  हूँ, और  मेरी  तन्हाई,

और  इस  ज़माने  के  पार  हूँ  मैं,

बेफ़िक्र  हूँ, बेखौफ़  हूँ,

के  मद्धम  जलती  अंगार  हूँ  मैं, 

मैं  किल्कारी, मैं  आँसू  भी,

के  दामन  से  छलकता  प्यार  हूँ  मैं,

मैं  मुश्किल  हूँ, मैं  आसां  भी,

कभी  जीत  हूँ  तो, कभी  हार  हूँ  मैं,

उलझनों  की  इस  कशमकश  में,

उमीदों  की  ललकार  हूँ  मैं,

लुत्फ़  उठा  रहा  हूँ, हर  मुश्किल  का,

के  भट्टी  में  तपती  तलवार  हूँ  मैं,

ये  लहरें  ये  तूफान, तुम्हें  मुबारक,

के  कश्ती  नहीं  मझधार  हूँ  मैं,

मैं  मद्धम  हूँ, मैं  कोमल  हूँ,

और  चीते  सी  रफ़्तार  हूँ  मैं, 

के  दर्दभरी  मैं  चीखें  हूँ,

और  घुँगरू  की  झनकार  हूँ  मैं,

मैं  निर्दयी  हूँ, मैं  ज़ालिम  हूँ ,

के  मुहब्बत  का  तलबगार  हूँ  मैं, 

मैं  शायर  हूँ, मैं  आशिक़  भी,

इस  प्रेम-प्रसंग  का  सार  हूँ  मैं,

तुम  मुझसे  हो, मैं  तुमसे  हूँ,

झुकते  नैनों  का  इक़रार  हूँ  मैं, 

मैं  गीत  भी  हूँ, मैं  कविता  भी,

के  छन्दो  में  छुपा, अलंकार  हूँ  मैं,

मैं  ये  भी  हूँ, मैं  वो  भी  हूँ,

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं, 

के  सीमित  नहीं  अपार  हूँ  मैं ||

 ***

I penned this one long back in an attempt to define my own self and I hope It lives up to this prompt.  This post has been written for Indispire Edition 132No one knows you better than yourself…. Peep into your heart and describe yourself in one sentence #Knowyourself .

 

राधे-कृष्ण :#Poetry

Indian Bloggers

Romantic-Love-Painting-Radha-Krishna-with-Green-Background-HD-Wallpaper (1)
Source here

I remember this one from the TV series on Mahabharata…

यदा  यदा  हि  धर्मस्य  ग्लानिर्भवति  भारत ।
अभ्युत्थानमधर्मस्य  तदात्मानं  सृजाम्यहम्  ॥४-७॥

परित्राणाय  साधूनां  विनाशाय  च  दुष्कृताम् ।
धर्मसंस्थापनार्थाय  सम्भवामि  युगे  युगे  ॥४-८॥

Translation:

Whenever and wherever there is a decline in religious practice, O descendant of Bharata, and a predominant rise of irreligion – at that time I descend Myself.

To deliver the pious and to annihilate the miscreants, as well as to reestablish the principles of religion, I Myself appear, millennium after millennium.

Here’s something for you to think upon…

उत्सव   हर  ओर  और  जगमग  मन  मन्दिर,

के   इन  गलियों  की  आज  भिन्न  सी  कुछ  आभा  है,

 गूंजेगा  पलना  आज  स्वयँ  वासुदेव  की  किलकरी  से,

पर इस मोर पॅंख में तेज आज कुछ कम सा है कुछ आधा है,

के  बुझा  दिया  जिस  कोख  का  दिया  समाज के इन रखवालों ने,

शायद उसी  कोख  में  राधा  है… उसी  कोख  में  राधा  है…||

                                           -doc2poet

***

Haiku #3

Indian Bloggers

Happy Independence Day

August  breeze,

Majestic  spectacle  of  the  Tricolor,

Salute  to  the  unnamed  martyrs…

***

Happy-Independence-Day-India-Wallpapers-1024x640

जय हिन्द

मद्धम  चलती  हवा,

बेफ़िक्र  लहराता  तिरंगा,

शत  शत  नमन  हर  उस  शहीद की  आहुति  को ||

***

Haiku #2

Indian Bloggers

haiku-beach
Source here

अस्तित्व 

असीम  ज्ञान  का  सागर,

बहती  धाराएँ,

कूपंन्डुक  मैं  निराधार ||

                                                                            -Doc2poet

कूपंन्डुक= कुएँ का मेन्डक